प्रेगनेंसी में गन्ने का जूस के फायदे और नुकसान- Sugarcane Juice During Pregnancy In Hindi

गर्भावस्था में पोषक तत्व से भरपूर खाद्य और पेय गर्भवती और भ्रूण दोनों के लिए जरूरी होते हैं। यही वजह है कि डॉक्टर अक्सर पौष्टिक फलों के साथ ही उ जूस पीने की भी सलाह गर्भवती को देते हैं। ऐसा ही एक पौष्टिक जूस गन्ने का भी है, लेकिन इसका सेवन गर्भवती कर सकती है या नहीं, इसको लेकर कई तरह के संशय महिला के मन में रहते हैं।

भले ही गन्ने का रस कई प्रकार के पोषक तत्व और औषधीय गुण से संपन्न हो, लेकिन गर्भावस्था जैसे नाजुक दौर में इसका प्रभाव सकारात्मक होगा या नहीं, यह जानना जरूरी है। इसी उद्देश्य के साथ स्टाइलक्रेज गर्भावस्था में गन्ने के जूस से जुड़े तमाम सवालों के जवाब लेकर आया है। बस तो प्रेगनेंसी में गन्ने के जूस के बारे में जानने के लिए अंत तक पढ़ें लेख।

प्रेगनेंसी में गन्ने का जूस पीना चाहिए या नहीं?
हां, गर्भावस्था में गन्ने का जूस का सेवन किया जा सकता है। बताया जाता है कि गन्ने के रस में विटामिन बी 9 की समृद्ध मात्रा होती है। साथ ही इसमें फोलिक एसिड भी होता है। यह दोनों ही पोषक तत्व प्रेगनेंसी के लिए जरूरी माने जाते हैं। साथ ही ये भ्रूण को प्राकृतिक जन्म दोषों से बचाने में सहायक हो सकते हैं (1)। बताया जाता है कि गन्ने का जूस गर्भवती के शरीर में ऊर्जा को बनाए रखने और मॉर्निंग सिकनेस जैसी समस्या को कम कर सकता है। यही नहीं, प्रेगनेंसी में गन्ने का जूस पीने से कब्ज की परेशानी भी कम हो सकती है। हां, मधुमेह रोग से ग्रसित महिलाओं को इसका सेवन कम मात्रा में डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए (2)।

प्रेगनेंसी में गन्ने का जूस फायदेमंद है या नहीं, जानने के बाद आगे पढ़िए कि गर्भावस्था में गन्ने के जूस के फायदे क्या-क्या हो सकते हैं।

प्रेगनेंसी में गन्ने का जूस के फायदे – 8 Benefits of Sugarcane Juice During Pregnancy In Hindi
गर्भावस्था में गन्ने का जूस पीने से क्या लाभ होते हैं, समझने के लिए लेख को आगे पढ़ें। यहां हमने प्रेगनेंसी में गन्ने के जूस से जुड़ी पूरी जानकारी रिसर्च के आधार पर विस्तार से दी है।

1. इम्यून सिस्टम
प्रेगनेंसी के दौरान इम्यूनिटी कमजोर होने से महिला को इंफेक्शन होने का खतरा बना रहता है (3)। इससे संबंधित एक रिसर्च पेपर की मानें, तो गन्ने के जूस से रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया जा सकता है। दरअसल, इसमें मैग्नीशियम, कैल्शियम और आयरन जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो इम्यूनिटी को बढ़ाने में मददगार हो सकते हैं। शोध में कहा गया है कि गन्ने का जूस इंफेक्शन से भी बचा सकता है। खासकर, गन्ने का रस मैक्रोफेज और न्यूट्रोफिल जैसे इंफेक्शन को खत्म करने वाली कोशिकाओं पर सकारात्मक असर डालकर वायरल, बैक्टीरियल और अन्य संक्रमण से बचाव कर सकता है (4)।

2. मॉर्निंग सिकनेस
प्रेगनेंसी के समय मॉर्निंग सिकनेस यानी मतली और उल्टी होना आम है (5)। इस परेशानी से राहत दिलाने में भी गन्ने का रस मदद कर सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, गन्ने के रस की छोटी-छोटी दो से तीन खुराक मॉर्निंग सिकनेस को दूर करने के लिए काफी है। रिसर्च में यह भी कहा गया है कि अदरक युक्त गन्ने का जूस भी इस समस्या के लिए कारगर हो सकता है (4)।

3. ऊर्जात्मक बनाए रखे
गर्भावस्था में महिला को थकान का एहसास बहुत होता है (6)। ऐसे में खुद को ऊर्जात्मक बनाए रखने के लिए गन्ने के जूस का सेवन किया जा सकता है। दरअसल, गन्ने के जूस को ऊर्जा बढ़ाने वाले पेय के रूप में जाना जाता है (7)। रिसर्च में बताया गया है कि इसमें 15 प्रतिशत प्राकृतिक शुगर होता है, जो इंस्टेंट यानी तुरंत एनर्जी दे सकता है। साथ ही यह लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) पेय है, जो शरीर में ऊर्जा बनाए रखता है (4)।

दरअसल, जीआई एक तरह का माप है, जो यह बताता है कि शरीर में कार्बोहाइड्रेट किस तीव्रता से ब्लड ग्लूकोज बनाता है। लो जीआई का मतलब हुआ शरीर धीरे-धीरे ग्लूकोज बनाता है, जिससे शरीर में ग्लूकोज की मात्रा बनी रहती है और ऊर्जा भी मिलती है (4)।

सम्बन्धित खवर

ताजा समाचार

लोकप्रिय